• Oct 10, 2017  |  [ View 232 ]  | 

    घूँघट में इक चाँद था और सिर्फ तन्हाई थी आवाज़ दिल के धड़कने की भी फिर ज़ोर से आयी थी





  • Shayari Category 706



    ☰ View Category
    × Close Category