• Oct 10, 2017  |  [ View 215 ]  | 

    आँखे झीलों की तरह होंठ गुलाबो जैसे अब भी होते है कई लोग किताबो जैसे





  • Shayari Category 706



    ☰ View Category
    × Close Category