Emotional Shayari ( 177 )


Emotional Shayari
  • Oct 17, 2017   |   Review 190   |  

    Aakhir Kab Tak Koi Dard Apna Chupaata Rahega.... Tu Kisi Na Kisi Bahane Se Yaad Aata Rahega....

    Share With
  • Oct 17, 2017   |   Review 78   |  

    कोई तो दिल का भी सहारा होता है; ज़रूरी नहीं ज़िन्दगी अपने लिए ही प्यारी हो; ज़िन्दगी में कोई तो ज़िन्दगी से भी प्यारा होता है

    Share With
  • Oct 9, 2017   |   Review 92   |  

    abse Ek Ajnaabi Ko Apne Dilme Basaaya Hai, Tabse Meri Zndgi Ka Har Rang Nikhar Aaya Hai, Har Lamha Har Jagah Bas Usi Ka Hota Hai Deedar, Ab To Kudrat Ka Har Jalwa Haseen Nazar Aaya Hai,,

    Share With
  • Oct 9, 2017   |   Review 47   |  

    Ansuoo Ko Palko Pe Laaya Na Kijiye, Dil Ki Baate Har Kisi Ko Bataaya Na Kijiye, Log Mutthi Me Namak Liye Firte Hain, Apna Har Zakhm Kisi Ko Dikhaaya Na Kijiye,,

    Share With
  • Oct 9, 2017   |   Review 76   |  

    Apno Ki Inaayat Kabi Khatam Nahi Hoti, Rishto Ki Mehak Dooriyon Se Kam Nahi Hoti, Jeevan Me Agar Saath Ho Sacche Rishto Ka, To Zindgi Jannat Se Kam Nahi Hoti,,

    Share With
  • Oct 9, 2017   |   Review 115   |  

    Wo Rootha To Har Baar Manaaya Maine, Ye Farz E Mohabbat Badi Wafa Se Nibhaaya Maine, Wo Meri Dehleez Par Kabi Aaya Hi Nahi, Jiske Liye Har Shaam Apne Ghar Ko Sajaaya Maine,,

    Share With
  • Oct 9, 2017   |   Review 35   |  

    Pani Se Pyaas Na Bujhi, Toh Maikhane Ki taraf Chal Nikla, Socha Shikayat Karun Teri Khudha Se, Par Khudha bhi Tera Ashiq Nikla,,

    Share With
  • Oct 9, 2017   |   Review 60   |  

    Muskaan tere hothon se kahin jaye na, aansu teri palkon pe kabhi aaye na, poora ho tera har khwab, aur jo poora na ho who khawab kabhi aaye na,,

    Share With
  • Oct 9, 2017   |   Review 78   |  

    Unko Hi Fursat Nahi Hai Mulaqaat Ki, Hume To Aadat Hai Intezaar Ki, Nahi Pata Kya Rog Hai Hume, Bas Ek Hasrat Rehti Hai Unke Deedar Ki,,

    Share With
  • Oct 9, 2017   |   Review 33   |  

    कोई कहता है प्यार नशा बन जाता है; कोई कहता है प्यार सज़ा बन जाता है; पर प्यार करो अगर सच्चे दिल से; तो प्यार जीने की वजह बन जाता है।

    Share With
  • Oct 9, 2017   |   Review 40   |  

    होती नहीं है मोहब्बत सूरत से; मोहब्बत तो दिल से होती है; सूरत उनकी खुद-ब-खुद लगती है प्यारी; कदर जिनकी दिल में होती है।

    Share With
  • Oct 9, 2017   |   Review 19   |  

    कोई तो दिल का भी सहारा होता है; ज़रूरी नहीं ज़िन्दगी अपने लिए ही प्यारी हो; ज़िन्दगी में कोई तो ज़िन्दगी से भी प्यारा होता है

    Share With
  • Oct 9, 2017   |   Review 36   |  

    उतर के देख मेरी चाहत की गहराई में ! सोचना मेरे बारे में रात की तन्हाई में ! अगर हो जाए मेरी चाहत का एहसास तुम्हे ! तो मिलेगा मेरा अक्स तुम्हे अपनी ही परछाई में !!

    Share With
  • Oct 9, 2017   |   Review 109   |  

    दिल से दिल की दूरी नहीं होती ! काश कोई मज़बूरी नहीं होती ! आपसे अभी मिलाने की तमन्ना है! लेकिन कहते हैं हर तमन्ना पुरी नहीं होती !!

    Share With
  • Oct 9, 2017   |   Review 25   |  

    Ek Sakhs Hi Kafi Hota Hai Gaam Bantne Ke Liae Mahfilo Me To Baas Tmashe Bante Hai

    Share With
  • Oct 9, 2017   |   Review 23   |  

    ibadato ki tarah mein yeah kam karti hu sabse pahle tumhe yaad karti hu khuda ne diya he yeh ishq ka noor yeah saltnat main tumhare naam karti hu

    Share With
  • Oct 9, 2017   |   Review 30   |  

    har ghadi sochte he bhalaai teri sun nai sakte buraai teri haste haste ro padti hai aankhen meri is tarah se sahte he judaai teri

    Share With
  • Oct 9, 2017   |   Review 90   |  

    Gum rha jab tak ke dun mein dun rha dil ke jaane ka nihayat gam rha mere rone ki haqikat jisme thi ek muddat tak wo kagaj nam raha

    Share With
  • Oct 9, 2017   |   Review 45   |  

    Fiza me mahakti sham ho tum Pyaar me kehakta jam ho tum Tumhe dil me chhupaye phirte he Ae dost meri zindagi ka doosra naam ho tum

    Share With
  • Oct 9, 2017   |   Review 34   |  

    Intezar se pyar na bada karta he Saari zindagi khuda se sajda karo tab ja ke Tumhare jaisa yaar mila karta he

    Share With
  • Oct 9, 2017   |   Review 77   |  

    ♥है मुश्किल तेरे दिल पर अपनी दोस्ती की कहानी लिखना शायद उतना ही जितना की बहते हमारे दीवानेपन की भी कोई दवा नही हमने तो वो भी सुन लिया जो उन्होने कहा भी नही

    Share With
  • Oct 9, 2017   |   Review 34   |  

    ♥हर घड़ी सोचते हे भलाई तेरी सुन नही सकते बुराई तेरी हस्ते हस्ते रो पड़ती है आँखें मेरी इस तरह से सहते हे जुदाई तेरी

    Share With
  • Oct 9, 2017   |   Review 41   |  

    गीले काग़ज़ की तरह ज़िंदगी अपनी कोई जलाता नही और बहाता भी नही इस कदर अकेले हो गये हैं आज कल कोई सताता भी नही और मनाता भी नही

    Share With
  • Oct 9, 2017   |   Review 34   |  

    फ़िज़ा मे महकती शाम हो तुम प्यार मे कहकता जाम हो तुम तुम्हे दिल मे छुपाए फिरते हे ए दोस्त मेरी ज़िंदगी का दूसरा नाम हो तुम

    Share With


Shayari Category 706



☰ View Category
× Close Category