Emotional Shayari in Hindi On Life ( 35 )


Emotional Shayari in Hindi On Life
  • Oct 13, 2017   |   Review 685   |  

    ग़ुस्से में ख़ुदा ने कहा: “मत भूल अपनी औक़त,तू तो एक इन्सान है ” हंस कर मैंने कहा: “तो मिला दे मुझ े मेरे प्यार से , और साबित कर दे की तू ही भगवान है

    Share With
  • Oct 13, 2017   |   Review 379   |  

    फिर ख़ुदा ने मुझसे कहा: “भूल जा उसे,चल तुझे जन्नत की अपसरा से मिलाता हूँ” मैंने कहा: “आ नीचे,देख मेरे प्यार का मुस्कुराता चेहरा, तुझे जन्नत की अपसरा भुलाता हूँ”

    Share With
  • Oct 13, 2017   |   Review 332   |  

    फिर ख़ुदा ने कहा: “मत कर इतना प्यार,बहुत पछतायेगा” मुस्कुरा के मैंने कहा: “देखते हैं तू कितना मुझे और तड़पायेगा”

    Share With
  • Oct 13, 2017   |   Review 302   |  

    Ikrar Me Shabdo Ki Ehmiyat Nahi Hoti Dil Ke Jazbat Ki Awaz Nahi Hoti Ankhe Baya Kar Deti Hai Dil Ki Dasta Mohabat Lafzo Ki Mohtaz Nahi Hoti !!

    Share With
  • Oct 13, 2017   |   Review 255   |  

    sometimes, it’s not the song that makes you emotional, it’s the people and things that come to your mind when you hear it.

    Share With
  • Oct 13, 2017   |   Review 266   |  

    ts very easy to say “busy” when someone needs you, But its very painful to hear “Busy” when you need someone.

    Share With
  • Oct 13, 2017   |   Review 246   |  

    People don’t buy for logical reasons. They buy for emotional reasons.

    Share With
  • Oct 13, 2017   |   Review 214   |  

    Don’t make a permanent decision for your temporary emotion.

    Share With
  • Oct 13, 2017   |   Review 250   |  

    मीर तो हम भी बहुत थे, पर दॊलत सिर्फ दिल की थी खर्च भी बहुत किया ए दोस्त, पर दुनिया मे गिनती सिर्फ नोटों की हुई

    Share With
  • Oct 13, 2017   |   Review 231   |  

    Ye dil hi toh janta hain meri pak mohabbat ka aalam, Ke mujhe jeenay ke liye sanso ki nahin teri zarurat hain.

    Share With
  • Oct 13, 2017   |   Review 216   |  

    Hume soorat se kya matlab hum to seerat pe mrte hai, Unse kehna tumhara husn dhal jaye toh bhi laut aana…!!

    Share With
  • Oct 13, 2017   |   Review 211   |  

    Hum na pa sake tujhe muddato se chahne ke baad, or Kisi ne apna bana liya tujhe chnd rasmein nibhane k baad.

    Share With
  • Oct 13, 2017   |   Review 217   |  

    Mausam ki misaal du ya tumhari, Koi puchh baitha hai badalna kisko kehte hai

    Share With
  • Oct 13, 2017   |   Review 218   |  

    Mat puchh kaise guzar rahi hai zindagi, Uss daur se guzar rahi hu jo guzarta hi nhi

    Share With
  • Oct 13, 2017   |   Review 430   |  

    मोहब्बत ज़िंदगी बदल देती है, मिल जाए तो भी ना मिले तो भी..!!

    Share With
  • Oct 13, 2017   |   Review 170   |  

    Kitni Raatein Beet Gayeen Kitne Din Beet Gaye, Bas Nhi Beeta To Yaadon Ka vo Pal Wo Guzra Hua Kal, Nahi Beeti Woh Aakhon Ki Nami Aur Teri Kami.

    Share With
  • Oct 13, 2017   |   Review 215   |  

    Jo koi samajh na sake woh baat hain hum, Jo dhal ke nayi subah laaye woh raat hain hum, Chod dete hain log rishte banakar, Jo kabhi na chute woh saath hai hum.

    Share With
  • Oct 13, 2017   |   Review 210   |  

    हाथ पकड़ कर रोक लेते अगर, तुझ पर ज़रा भी ज़ोर होता मेरा, ना रोते हम यूँ तेरे लिये.. अगर हमारी ज़िन्दगी में तेरे सिवा कोई ओर होता.

    Share With
  • Oct 13, 2017   |   Review 204   |  

    छोटी सी ज़िंदगी है, हर बात में खुश रहो … जो चेहरा पास ना हो, उसकी आवाज में खुश रहो …. कोई रूठा हो तुमसे, उसके इस अन्दाज में खुश रहो …. जो लौट कर नहीं आने वाले, उन लम्हों की याद में खुश रहो ….

    Share With
  • Oct 13, 2017   |   Review 183   |  

    मेरी जिन्दगी को तन्हाई ढूँढ लेती है, मेरी हर खुशी को रुसवाई ढूँढ लेती है, ठहरी हुई हैं मंजिलें अंधेरों में कबसे, मेरे जख्म को गमे-जुदाई ढूँढ लेती है!

    Share With
  • Oct 13, 2017   |   Review 189   |  

    मेरी जिन्दगी को तन्हाई ढूँढ लेती है, मेरी हर खुशी को रुसवाई ढूँढ लेती है, ठहरी हुई हैं मंजिलें अंधेरों में कबसे, मेरे जख्म को गमे-जुदाई ढूँढ लेती है!

    Share With
  • Oct 13, 2017   |   Review 212   |  

    कुछ नहीं है आज मेरे शब्दों के गुलदस्ते में, कभी कभी मेरी खामोशियाँ भी पढ लिया करो…!!

    Share With
  • Oct 13, 2017   |   Review 271   |  

    टूटे हुए सपनो और छुटे हुए अपनों ने मार दिया वरना ख़ुशी खुद हमसे मुस्कुराना सिखने आया करती थी !!

    Share With
  • Oct 13, 2017   |   Review 278   |  

    वो मुझे भूल ही गया होगा, इतनी मुदत कोई खफा नहीं रहता.

    Share With


Shayari Category 706



☰ View Category
× Close Category